थोड़ा वक्त गुज़रने को वक्त को गुज़ारने दो

थोड़ा वक्त गुज़रने को, वक्त को गुज़ारने दो 
धीरज रखो सब ठीक ही होगा ग़र तुम होगे,,

यहाँ बिकता सबकुछ रुपयों से, धीरज रखो 
रुपयों को आने के लिये, वक्त तो गुज़रने दो,,

रोजगार भले ना हो, खेत खलिहान तो होगा
ख़ेती बारी करने को जनसख्याँ घट जाने दो,,

ग़ुलामी मत करना यारो, ग़ुलाम बन जाओगे 
ग़ुलामी करवाने के लिये वक्त को गुज़ारने दो,,

अकेले कब तक लड़ोगे सभी दुश्मन के जैसे 
दुश्मन के संग दोस्ती को वक्त को गुज़रने दो,,

झुकना मत सब याद रखना जो गयें अपने थे 
अपनों की याद में, वक्त को हीं गुज़र जाने दो,,

छोड़ना मत भ्र्ष्टाचारियों को, अत्याचार करेंगे 
भविष्य के सुधार में वर्तमान को बिगाड़ने दो,,

बदला नहीं बदलाव जरूरी, ग़र सुधरना चाहे 
बदलाव के लिये बदला ग़र बिगड़ता हीं जाये,,

बर्वाद कितनों का करेगा, तुम अकेले तो नहीं 
जनता को जागरूक करो वक्त गुज़र जाने दो,,

फ़िर से आयेगा, वोट मांगने को, वक्त आने दो 
वोट देना हीं मत फ़िर से एलेक्शन तो आने दो

#NYAY #Anyay #Bhrashtachar #poor

टिप्पणियां

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

यही तो विकास है

जीत उसी की होती जिसने हार को कभी झेला

कोरोना महामारी का सब को ख़बर